liquid funds meaning in hindi-liquid fund kya hai-लिक्विड फंड क्या है

liquid funds meaning in hindi-liquid fund kya hai-लिक्विड फंड क्या है

दोस्तों आज हम इस लेख में लिक्विड फंड के बारे में जानेंगे जिसमे मैं आपको लिक्विड फंड्स के फायदे और नुक्सान , सबसे अच्छी रिटर्न देने वाली liquid mutual fund कौन सी हैं , इस फंड में रिस्क कितना रहता हैं और साथ में कुछ उदाहरण भी दूंगा ।

जिससे किसी liquid funds को कैसे चुना जाए इसके बारे में पता चल सकें तो इस्त्ने सारे इनफार्मेशन को जानने के लिए इस लेख को पूरा पढ़ना बेहद जरुरी हो जाता हैं तो चलिए अब सुरु करते हैं ।

liquid fund meaning in hindi

म्यूच्यूअल फंड में लिक्विडिटी का मतलब यह है की किसी asset को कितनी जल्दी बेच या खरीद कर उसे कैश में बदला जा सकता है ।

वैसे हम यह जानते है की म्यूच्यूअल फंड कई तरह के होते हैं जिसमे मुख्य रूप से high risk वाले म्यूच्यूअल फंड जिसे हम small cap fund कहते है , mid cap वाले फंड जिसे हम midcap fund के नाम से जानते है और कम रिस्क वाले फंड जिसे large cap fund कहते हैं ।

इन तीनो से भी हटकर एक फंड होता है जिसे हम liquid mutual fund के नाम से जानते है इसमें लार्ज कैप से भी रिस्क बहुत कम होता हैं क्योंकि इसके मात्र कुछ पैसे ही शेयर मार्किट को दिए जाते हैं बाकी के पैसे को किसी बांड्स , डिबेंचर , सरकारी सिक्योरिटी, ट्रेजरी बिल आदि में लगाया जाता हैं ।

liquid funds डेब्ट फंड का ही एक हिस्सा होता हैं इसलिए यदि आप कोई पूंजी को 3 से 6 महीने के लिए इन्वेस्ट करने की सोच रहे हैं तो उसे जरूर लिक्विड फंड में इन्वेस्ट करे क्योंकि इन फंड को इसीलिए कम समय के लिए बनाया गया हैं ।

what is liquid fund in hindi-मुतुअल फंड सही है

जैसा की हम यह जान चुके है की liquid mutual fund में cash या एसेट को जल्दी सेल नहीं किया जाता हैं जिसके कारण उसकी लिक्विडिटी मजबूत रहती हैं और उसके साथ ही रिस्क भी कम हो जाता हैं ( liquid funds hindi )।

इस तरह के फंड स्किम का निवेश उस जगह में किया जाता है जहां से रिटर्न मिलने की संभावना बहुत अधिक रहती हैं जैसे ट्र्जरी बिल , कोमर्सिअल पेपर , कॉल मनी आदि इसके उदाहरण हैं । इस तरह के स्किम में पूर्व निर्धारित ब्याज दर रहती हैं ।इस तरह के बांड की मचुरिटी 91 दिन की होती हैं ।

liquid-funds-meaning-in-hindi-liquid-fund-kya-hai-लिक्विड-फंड-क्या-है-1

2020 में आये कोरोना महामारी के वजह से इन mutual fund का रिटर्न में गिरावट आयी हैं जो 6 से 8 % से घटकर 4 से 5 % तक जा पहुंची हैं लेकिन अभी भी इस फंड में इतना पोटेंशियल है की fixed डिपोसिट से भी बढ़िया रिटर्न देने सक्षम हैं ।

इसका ज्यादातर इन्वेस्ट बांड में किया जाता हैं इसलिए यदि बाजार में सस्ते ब्याज पर कोई उधार मिल रहा हैं तो जाहिर सी बात है की liquid fund के रिटर्न भी कम ही मिलेंगे अतः इस प्रकार यह सीधे liquid fund पर असर डालता हैं ।

liquid fund का exit load – ( liquid fund kya hota hai )

 

बेस्ट म्यूच्यूअल फण्ड ? debt fund क्या है ?

यह चार्जेज फंड को बेचने के दौरान लिए जाते हैं लेकिन आपको बता दे की इसका कोई exit load पहले नहीं था परन्तु sebi के नए नियम के वजह से यदि आपने 7 दिन के अंदर अपने इन्वेस्ट के पैसे निकाल लिए तो आपको अब exit load भी देना पड़ेगा यह exit load कितना होता है इसके बारे हम आगे बात करेंगे ।

risk in liquid mutual fund( liquid funds meaning in hindi-liquid fund kya hai-लिक्विड फंड क्या है )

risk-in-liquid-mutual-fund

सभी म्यूच्यूअल फंड स्किम की तरह इसमें भी risk होता हैं लेकिन उसका अनुपात दूसरे फंड के मुक़ाबले बहुत कम होते हैं क्योंकि इस फंड का कुछ हिस्सा ही शेयर मार्किट में इन्वेस्ट किये जाते हैं जिसमे ज्यादा उतार – चढ़ाव होता है और इसका असर इसके nav पर आसानी से देखा जा सकता हैं ।

इसके अलावा भी यह अपना कुछ हिस्सा बांड्स या क्रेडिट रिस्क  में इन्वेस्ट करती हैं जिसमे कई बार इस भी होता है की किसी बांड्स का पैसा वापस नहीं आये जिसका मतलब यह है की फंड हाउस ने जिसे पाना पैसा ब्याज पर उधार दिया वो पैसा उसे समय पर मिला ही नहीं ।

या वह पार्टी पैसा नहीं लौटा पाया । इस तरह के सबसे ज्यादा केस कॉर्पोरेट बांड्स में देखने को मिलते हैं । क्योंकि कई बार कंपनियां पैसा वापस करने में सक्षम नहीं होती हैं लकिन ठीक इसके उलटा सरकारी बांड्स सबसे सेफ्टी होते है जो समय पर पैसा लौटाने में सक्षम हैं ।

liquid funds कैसे काम करता है( liquid fund kya hai in hindi )

जब भी कोई निवेशक अपना पैसे लिक्विड फंड में इन्वेस्ट करता है तो उस फंड हाउस का मैनेजर निवेशक के पैसे को किसी बांड्स या सरकारी सिक्योरिटीज , कॉल मनी आदि में इन्वेस्ट करती हैं और इसके साथ ही पुराने बिल की तारीख पूरा होते ही उस फंड से नए बांड्स खरीद लिए जाते हैं ।

तो इस प्रकार यह नियमित प्रक्रिया लगातार चलती रहती है और इन फंड्स की nav को इन्ही के ब्याजदर के आधार पर निकाली जाती हैं । परतेक कार्य दिवश पर nav की गड़ना की जाती हैं तथा बांड का ब्याज फिक्स होने के वजह से लिक्विड fund की वैल्यू ज्यादा उथल – पुथल नहीं होता हैं ।

liquid fund में लगने वाले टैक्स ( liquid mutual fund kya hai )

इस फंड में exit load के अलावे दो तरह के और टैक्स लिए जाते हैं जिसे निचे विस्तार से बताया गया हैं (लिक्विड फंड्स इन हिंदी) –

LTCG TAX ( LONG TERM CAPITAL GAIN )

यदि किसी लिक्विड फंड को 3 साल के बाद बेचा जाता हैं तो आपके पूंजी को छोड़कर उसपर होने वाले लाभ पर 20 % तक का ltcg टैक्स लिया जाता हैं । लेकिन यहां ध्यान देने वाला बात यह है की यह टैक्स तभी लगेगा जब आपका मुनाफा 1 लाख रूपए से अधिक हो

mutual-fund-hindi-0864

अभी पढ़े 

मान लीजिये किसी इन्वेस्टर को 10 लाख के इन्वेस्ट पर 3 साल बाद 1,50,000 रूपए का मुनाफा हुआ । इस परिस्थिति में इन्वेस्टर को 10 लाख को हटाकर केवल हुए मुनाफे यानी की 1,50000 रूपए पर ही 20 %  टैक्स यानी  कुल 30000 रूपए देने होंगे

STCG TAX ( SHORT TERM CAPITAL GAIN )

जब किसी लिक्विड फंड को 3 वर्ष से पहले बेच दिया जाता हैं तब उसपर होने वाले लाभ को शार्ट टर्म कैपिटल गेन माना जाता है । stcg की स्थिति में निवेशक को हुए मुनाफे को उसके वार्षिक आय में जोड़ दिया जाता हैं और इस तरह निवेशक से टैक्स स्लैब के अनुसार टैक्स लिया जाता हैं

difference between bank saving account and liquid mutual fund in hindi 

आज के समय में लगभग सभी बैंक ने अपने ब्याज को बहुत घटा दिया हैं जो की 3.5 से लेकर 4 % तक सिमित हैं लेकिन यदि मुद्रास्फीति की दर 6 पर्ट्सत भी माना जाए तो सेविंग अकॉउंट में पैसा रहते हुए भी सालाना यह दर 2 से 2.5 % ही रह जाता हैं ।इससे यदि liquid fund की तुलना सेविंग से की जाए तो लिक्विड फंड कही बेहतर रेतुर्न देने में सक्षम हैं और मुद्रास्फीति से निपटने में भी मददगार हैं

स्माल कैप फण्ड क्या है ? मिड कैप फण्ड क्या है ?

liquid fund ke fayde – लिक्विड फंड के फायदे 

liquid-fund-ke-fayde

थोड़ा रिस्क के वजह से हमे लिक्विड फंड में कितना नुक्सान होगा इसके बारे में तो जान लिया परन्तु अब हम लिक्विड फण्ड के फायदे के बारे में जानेंगे जिसमे मैंने कुछ पॉइंट के साथ इसके फायदे को बताया हैं ।

बेहतर रिटर्न 

आज के समय में बैंक के ब्याज दर की गिरावट के बाद अपने पूंजी पर अच्छ रिटर्न पाने के लिए liquid fund एक बढ़िया विकल्प होता हैं और यह भी संभव है की fixed deposite से भी ज्यादा रिटर्न दे । इसलिए ज्यादा मुद्रस्फीति होने पर उस निवेश पर सबसे सेफ्टी और अच्छा रिटर्न पाने के लिए लिक्विड म्यूच्यूअल फण्ड  बढ़िया ऑप्शन हैं ।

कम रिस्क 

चूँकि हम यह जान चुके है की इसका सबसे ज्यादा निवेश बांड्स में किये जाते है जो कम अवधि के होते हैं तथा ब्याजदर में होने वाले परिवर्तन के रिस्क से निवेशक को सुरक्षा मिलती हैं इसलिए इनमे बहुत ही मामूली रिस्क रहता हैं ।

ल्क्विडीटी 

किसी भी लिक्विडिटी फण्ड में आसानी से कोई भी निवेशक पैसा इन्वेस्ट कर सकता हैं क्योंकि बाद में जरुरत पड़ने पर पैसा निकालने में कोई परेशानी नहीं होती हैं इसलिए लिक्विडिटी का मतलब भी यही हैं तथा इसमें कोई लॉक इन पीरियड भी नहीं होता हैं ।

एग्जिट लोड 

अगर कोई निवेशक अपने पूंजी को किसी liquid fund में इन्वेस्ट करके उसे 7 दिन बाद निकलते है तो कोई भी एग्जिट चार्जेज नहीं लिए जाते लेकिन यदि 7 दिन के अंदर पैसा को रेडिम करते है तो आपको एग्जिट लोड के रूप में 0.50 % से लेकर 1 % तक देने पड़ सकते हैं ।

डायवर्सिफिकेशन 

निवेशक अपने पूंजी का निवेश यदि इक्विटी फण्ड में करते है तो उसका कुछ हिस्सा liquid fund में भी जरूर करना चाहिए इससे निवेश में विविधता बनी रहती हैं ।

difference between fixed deposit and liquid mutual funds in hindi 

अब हम बैंक की फिक्स्ड डिपाजिट और लिक्विड फण्ड में अंतर को समझते है जिसमे पहला पॉइंट RISK  है जिसमे फिक्स्ड डिपाजिट की सुविधा बैंक या फिर NBFC द्वारा दी जाती हैं जिसमे रिस्क नहीं होता परन्तु लिक्विड फंड्स में रिस्क होता हैं

दूसरा return जिसमे फिक्स्ड डिपाजिट द्वारा कम से कम 6 % मिल जाते हैं जो की यह रिटर्न देश की अर्थवयवस्था और वित्तीय वयवस्था पर निर्भर होता है वहीँ दूसरी तरफ liquid fund में रिटर्न कोई फिक्स नहीं लेकिन यह FD से अधिक होती हैं

तीसरा पॉइंट liquidity  है  जिसमे बैंक में की गयी FD पर समय से पहले निकाशी पर पेनल्टी देने पड़ते हैं जो अमूमन रिटर्न का 1% तक का होता हैं परन्तु लिक्विड फण्ड में कम से कम 7 दिन के रखना होता है उसके बाद कोई भी चार्ज नहीं देने पड़ते हैं

चौथा tax है जो दोनों पर लागू होते हैं जिसमे यदि आपका FD है और आपका ब्याज से हुए इनकम 40,000 रूपए से अधिक हैं तो फिक्स्ड डिपाजिट की समय सिमा पूरा होने पर 10% तक का TDS लिया जा सकता हैं वहीँ liquid fund 3 साल के बाद निकाशी की जाती है तो 20% तक का LTCG देना पड़ता हैं और 3 साल के अंदर निकाशी पर वार्षिक आय के साथ tax लिया जाता है

पांचवा tax benefits है जिसमे FD को सीधे तौर पर 3 से 5 साल की लॉक इन पीरियड वाले FD पर इनकम टैक्स की धरा 80 (c) की छूट मिलती हैं परन्तु टैक्स बेनिफिट्स नहीं होती हैं

छठा top-up है जो फिक्स्ड डिपाजिट में सुविधा नहीं होती हैं लेकिन लिक्विड फण्ड में आपको लगे की आपका फण्ड रिटर्न अच्छा दे रहा है तो आप कभी भी कितने बार भी निवेश कर सकते हैं

mutual fund कैसे चुने ? large cap fund क्या है 
आदित्य बिरला सन लाइफ लिक्विड फण्ड-aditya birla sun life liquid fund kya hai-(best liquid fund)

आदित्य बिरला सन लाइफ लिक्विड फण्ड

check detail

इस फण्ड को वैल्यू सर्च द्वारा 4 की रेटिंग दी गयी हैं और जनवरी , 2022 में इसका एक nav का प्राइस 340 रूपए का हैं । इस फण्ड ने पिछले एक साल में 3.43 % का रिटर्न और 5 साल में 32.07 % का रिटर्न दिया हैं (लिक्विड फण्ड रिटर्न्स)।

यदि कोई निवेशक इस फण्ड में 1 साल के लिए निवेश करता है तो उसे 3432 रूपए का अतिरिक्त मुनाफा होगा और इस फण्ड में sip ( sbi sip best plan )के लिए कम से कम 500 रूपए और लमसम के लिए 5000 रूपए तय किया गया हैं ।

साल 2021 के अंत में इस फण्ड का कुल AUM प्राइस 28,408.39 करोड़ रूपए थी । इस फण्ड का एक्सपेंस रेश्यो 0.21 % है और कॅश होल्डिंग को क्षमता 28.92 % हैं जो की एक मजबूत अस्स्ते को दर्शाता हैं ।

इस फण्ड में exit load के रूप में , 1 दिन के भीतर रिडीम करने पर 0.0070% का एग्जिट लोड, 2 दिनों के भीतर भुनाए जाने पर 0.0065%, 3 दिनों के भीतर भुनाए जाने पर 0.0060%, 4 दिनों के भीतर भुनाए जाने पर 0.0055%, 5 दिनों के भीतर भुनाए जाने पर 0.0050%, 6 दिनों के भीतर भुनाए जाने पर 0.0045% .

इस फण्ड का रिस्क मीटर मॉडरेट हैं और यह फण्ड अपने निवेश को cp , t-bills , cd , debentures , goi sec , ncd , cgl , bonds आदि में निवेश करने के साथ कुछ हिस्सा शेयर मार्किट जैसे – Reliance Retail Ventures , Bharti Airtel , The Federal Bank , adani ports , Citi Corp Finance Ltd , Birla Group Holdings , Godrej & Boyce Mfg. Co आदि में भी निवेश करती हैं ।

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लिक्विड फंड क्या है-icici prudential liquid fund in hindi

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लिक्विड फंड

check detail 

icici prudential liquid fund को वैल्यू सर्च द्वारा 4 की स्टार रेटिंग दी गयी हैं और इस फण्ड का nav प्राइस साल 2022 के जनवरी महीने में 313 रूपए का था । इस स्किम ने पिछले साल 3.39 % का रिटर्न दिया था जबकि 5 साल में 31.75 % का रिटर्न देखने को मिलता हैं ।

इस फण्ड में sip सुरु कराने के लिए कम से कम 500 रूपए रूपए और लमसम के लिए कम से कम 5000 रूपए तय की गयी हैं । 2021 के अंतिम महीने में कुल 32,833.72 करोड़ रूपए का था । इस फण्ड का expense ratio 0.20 % और कॅश होल्डिंग 34.09 % का हैं ।

समय से पहले exit करने पर , 1 दिन के भीतर रिडीम करने पर 0.0070% का एग्जिट लोड, 2 दिनों के भीतर भुनाए जाने पर 0.0065%, 3 दिनों के भीतर भुनाए जाने पर 0.0060%, 4 दिनों के भीतर भुनाए जाने पर 0.0055%, 5 दिनों के भीतर भुनाए जाने पर 0.0050%, 6 दिनों के भीतर भुनाए जाने पर 0.0045% .

इस फण्ड का रिस्क मीटर low moderate पर हैं और यह फण्ड अपना निवेश ncd , cgl , bonds , cp , t-bills , cd , debentures , goi sec आदि में करती है और इसका कुछ हिस्सा सहरे मार्किट में भी किया जाता हैं जो लार्जेकप के कम रिस्क वाले स्टॉक्स होते हैं ।

निष्कर्ष ( liquid funds meaning in hindi-liquid fund kya hai-लिक्विड फंड क्या है )

आशा करता हूँ की आपको मेरा यह लेख what is liquid mutual fund in hindi या लिक्विड फंड क्या होता है या लिक्विड फण्ड क्या होता है  या व्हाट इस लिक्विड फण्ड  बहुत पसंद आया होगा यदि आपका कोई सवाल है तो उसे कमेंट में जरूर पूछे धन्यवाद ।

mutual-fund-1

mutual-fund-2

mutual-fund-3

mutual-fund-4

mutual-fund-5

 

mutual-fund-7

mutual-fund-8

mutual-fund-9

Leave a comment